Explore KVMT

All Dogri Sonnets

त्रै-मुखी रूप

मनुक्खी जीवना च धारनामां त्रै जरूरी न:-
तुसाढ़ा अपना मुल्ल किन्ना’कु ऐ अपने स्हाबा नै?

तुसाढ़ा मुल्ल किन्ना पांदे लोक चोरी-चोरी न?
तुसाढ़ी असली कीमत पेई ऐ किन्नी सबब्बा नै?

अपने लाए दे मुल्ला च एह् कमजोरी होंदी ऐ:-
इदे च असलीयत निं:- हीखियें दा अक्स होंदा ऐ।

बगान्ने लाए दे मुल्लें च हसद बैठी रौंह्दी ऐ, –
बगान्ना मुल्ल अक्सर सच्चै दे बर-अक्स होंदा ऐ।

अपनी असली कीमत जानने दे खाह्षमंदें गी,
अपने आपा कन्नै सच्च म्हेषां बोलना पौंदा।

ते अपने बैह्में दी जमांधरू, पुष्ती कमंदें गी, –
अति बे-रैह्मी कन्ने कप्पना जां खोह्लना पौंदा।

बगैर सख्तियां कीते दे भाव निर्मल निं होंदे।
बगैर सिप्पियें त्रोड़े-कदें बी मोती निं थ्होंदे।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com