Explore KVMT

All Dogri Sonnets

आप – अलोचना

में माह्नू षोह्रतें दै पिच्छें-पिच्छें भड़कने आला,
उमर दी गिनतरी करदे लै बिलकुल चुप्प होई जन्नां।

ते मिक्की अरबला लगदी ऐ लागर मुड़कदा टाह्ला;
में अपनी खामियें गी गिनदा जन्नां, कन्ने रोई जन्नां।

मिगी लगदी ऐ चिन्ता-मेरे मनसूबें दा केह् होना?
मना च सुरकदे ख्यालें गी में कि’यां करी कैह्ना?

बचे दे साल्लें कोला मिक्की केह् ज्ञान ऐ थ्होना?
लुआना कियां सोचें गी दरुस्त लफ्ज़ें दा गैह्ना?

में लीन दुनियां च होइयै भुलाया की हा कान्नी गी,
लिखे निं की में अपने गीत पूरा जान-जी लाइयै?

बड़ा में झूरनां ते कोसनां अपनी नदानी गी,
बमार इल्लें आंह्गर गासा ब’ल्ल टिक-टिकी लाइयै।

फ्ही हीखी कामयाबी दी दिला गी डंगन लगदी ऐ,
ते तांह्ग षोह्रतें दी फिक्की-फिक्की लग्गन लगदी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com