Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अनुरूपता

सृष्टी दा श्री गनेष करदे, अल्ला-तआला नै,
निपुन रचनाकारै नै: समागम एह्कड़ा चेचा ;

नियुक्ती एह् खसूसी ते टकोधा एह्कड़ा निरनै;
मलाटी एह्कड़ी नोखी; रुहानी एह्कड़ा पेचा;

घनिष्ट मेल एह् कणा-कणा दा रूएं-रूएं दा;
संभोगी टाकरा नज़रें दा ओठें दा, षनाखत दा;

सरोखड़ मेल बातन दा, मनें दा, रूहें-रूहें दा;
अगोचर ताल-मेल सोझा दे ठैह्राऽ ते हरकत दा –

घटी जाने गितै, दानिस्ता बक्त निष्चत कीता हा।
तिरे नै मिलने दा रद्द-ए-अमल एह् कर्म हा मेरा:

में अपने आपा गी फौरन तेरे प अर्पत कीता हा,
ते इस सपुर्दगी च एह् अछूता मर्म हा मेरा:

जे मिक्की जिंदगी च तूं जकीनन हासल होना ऐ।
ते निष्चत होए दा ऐ-इ’यां में मुकम्मल होना ऐ:

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com