Explore KVMT

All Dogri Sonnets

इक अपने गी

में तेरी दुद्ध-चिट्टी छातियें च सिर जदूं रक्खां,
त्राटां मारने आह्ले मेरे झूरे रुकी जन्दे।

तेरे नै जद कदें बी मिलदियां न मेरियां अक्खां,
मना दी कौड़तन जन्दी, गमें दे सिर झुकी जन्दे।

तूं मेरा कुस जनम दा देना ऐ किष, में तुगी जिन्दे,
दुखें दे सेक दिन्नां ते सुखें दी ऐमनी लैन्नां ;

तुगी में दिन्नां झित्थे ते कबल्ले बलबले लिन्धे।
तूं ठाठां मारदी दिन्नी ऐं हीखी-तेरा केह् कैह्ना !

जदूं दा तेरै कन्ने ताल-मेल होए दा मेरा,
तूं सारी रंजषें दी हुंडियें गी खोह्ली छोड़े दा

ते मेरे इक्क-इक्क गीता उप्पर स्हान ऐ तेरा,
तूं सार जिन्दगी दा अक्खरें च घोली छोड़े दा।

मेरे जिस्मा दै राहें तूं मेरी रूहा गी छूह्ता ऐ ;
तेरा औना, मिगी मिलना, मिगी थ्होना-अछूह्ता ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com