Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नमां इरादा

बथ्हेरे कम्म मेरे पे’दे अद्धे-अधूरे न,
कुसा गी चिट्ठी लिखनी ऐ, कुसा गी सीस देनी ऐ ;

कुसा षा कत्थां सुनियै भरने दिलचस्पी दे ङ्हूरे न ;
बतूरे हासें गी किज दरदमन्दी टीस देनी ऐ।

मगर में सोचनां एह् आलसी मना दे झूरे न –
में चाह्न्दे होए बी आखी निं सकेआ जो गलानी ही।

रुटीन कम्म च होए मेरे जज़बे बतूरे न,
अति नुकसान देने आली मेरी बे-ध्यानी ही।

अधूरे निक्के-निक्के कम्में दा ठाला ऐ लग्गे दा,
बतैंगड़ जज़्बें दी हाल्ली तिगर दारी नेईं कीती ;

बिना मुकाए पिछले कम्म केह् सोचां में अग्गें दा,
मुकम्मल कोई में अज्जा तिगर कारी नेईं कीती।

मना आ – सोच, समझ, अकल-ध्यान इक-मिक करियै,
बनाचै कीतियां, अनकीतियें गी इक-इक करियै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com