Explore KVMT

All Dogri Sonnets

षुकरगुजारी

तेरे षा खिंडने परैंत्त मेरी रूह् खिनचित्ती,
नमोष ते खमोष, स्हारा दी ऐ सैंसें दा न्हेरा।

तपाषू आं में खुषियें दा; खुषी जो तूं मिगी दित्ती,
अछूती उस खुषी तांईं अऊं मषकूर आं तेरा।

तूं मिक्की छोड़ी दित्ता हा, कमी मेरे च कोई ही।
दगाबाज़ी ही ओ तेरी? कदें में मन्नी निं सकदा।

बजह मसूस करनां पर गद्हूद लफ्ज़ें च एह्दी –
पचीदा, नासमझ समझा गी भलेआं ब’न्नी निं सकदा।

में तांहियै सोचनां जे अटकलां लाइयै में केह् करगा ?
मना च रोह्, रोसा, तरक, तनज़, हैन्नी, माफी ऐ।

ते लोक भाएं मिक्की आखदे न सूध ते डि’रगा ;
मेरे ताईं तेरे लाडा दी सिर्फ याद काफी ऐ।

तुगी पाई निं सकेआ – एह्दा मी बे-स्हाब झूरा ऐ,
बो तेरे लाडा दा चेता सरोखड़ ऐ-सबूरा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com