Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अनटुट्ट बसाह्

तेरै कन्ने गुजारे दे दिनें दी नि’म्मी गुमनामी,
(तेरे-मी छोड़ने दै बाद मेरी दुर्दषा कोला -)

मती औंदी ऐ चेता। तेरे हिरखा च कोई खामी,
मिगी लभदी नेईं। पुच्छना में केह् कुसा कोला ?

कसूर कोह्दा हा? कि’यां ‘वियोगी’ जी सकदा ऐ?
दुराडे थाह्रें होने अज्ज म्हाड़े इष्का दे चरचे, –

जे तूं एं दोषी मेरी-पर जमान्ना झूठ बकदा ऐ !
कुसा गी साढ़े ज़ाती भाव-सोह्ने, नेड़मां चेचे

ते उन्दी तीखमी नज़दीकियें दी खबर हैन्नी सो।
कसम चुकाई लै तूं मेरे इक्क-इक्क साह् दे कोला ;

ते भाएं मेरै पासै अज्ज तेरी नज़र हैन्नी सो,
में ताह्मीं हारेआ निं जिन्दगी अन्दर कुसा कोला।

तूं मिक्की छोड़ेआ, कोई तेरी मजबूरी होनी ऐ
जां निष्चत होए दा हा साढ़ै मंझ दूरी होनी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com