Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खड़ुत्त बक्त – चलैंत्त माह्नू

दुनियां दे स्यानें दा जकीन हा बड़ा पक्का, –
”खड़ुत्त धरतरी चगिर्द सारे तारे घुमदे न।“

मगर गलेलियो नै, आखियै, लाया इसी धिक्का, –
”चगिर्द सूरजै दै एसदे सेआरे घुमदे न।“

लुकाई ही स्यानी, इस मंतक करी होई,
ते दुनियां दे ज्ञानै च अति बढ़ोतरी होई।

प दुनियां दे स्यानें गी जकीन ऐ अजें तिक्कर,-
”खड़ुत्त माह्नूऐ चगिर्द बक्त लांदा ऐ चक्कर।“

प मेरे स्हाबें बक्तै दै चगिर्द माह्नू घिरदा ऐ,
ते बक्त इक्क थाह्रै गै खड़ुत्त रौंह्दा ऐ लोको,

ते माह्नू ब’ल्दै आंह्गर इसदै चफेरै फिरदा ऐ।
प बक्त कोह्लुआ दै आंह्गर साकत होंदा ऐ लोको:-

खड़ुत्त रेल-गड्डी जि’यां ओल्लै चलदी सेही होंदी,
कोल लंघदे, हाल्ली-के चला दी गड्डी दूई होंदी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com