Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ग्रैह्-गता गोचर

तिरै कन्नै मलाटी दिलबरा, सैह्बन गै होई ही:-
जां मिक्की तूं बुलाया हा, जां में आपूं गै आया हा।

जां त्रिकाल-दर्षी सर्व-ब्यापक षक्ती कोई ही,-
जि’न्नै पैह्लें-मिथे दा मेल एह् साढ़ा कराया हा;

जां सिर्फ घटना ही अनहोनी, जां इत्तफाक हा नोखा?
भाएं उनबान केह्ड़ा बी मलावे इसदा में रक्खां,-

एह् क्हीकत ऐ जे एह्दी षिद्दता दा रंग हा चोखा
मसूस करदियां न रीढ़ा दियां अज्ज बी षाखां।

सील, सोझ, गरम जोष, बतीरा नेक ओ तेरा।
तिरी ईमानदारी, खु’ल्लम-खु’ल्ला, बोलदा जुस्सा,

तिरे किरदारा दा ओ दोषहीन चमकदा हीरा-
अनैंत्त भाएं, तेरी अक्खियें दा बे-पनाह् हास्सा,-

असाढ़े प्यारा दा पालन करग, पोषन करग उच्चर,
जदूं तगरा न सुआस बाकी साढ़े ग्रैह्-गता गोचर।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com