Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सलाह्

जदूं ही नौन्दी जून्नें च तां प्यारा माह्नू दा देह् हा,
मनुक्खी आतमा बनियै एह् ब्रह्मा बनना चाह्न्दी ऐ।

ते बौह्त झूरदी ऐ, ”माह्नू च में दिक्खेआ केह् हा?“
षरीरी पिंजरे च छड़कदी ते तिलमलान्दी ऐ।

ए रौह्न्दी डौर-भौर होई दी, घड़ियां ते पल गिनदी।
दलीलां मन अति दिन्दा मगर एह् रौं नईं लांदी।

दुरेडी मन्ज़लें दी त्रेह् इसगी जीन निं दिन्दी।
गिला करदा ऐ मन तां कन्नें इच ऐ औंगलां पान्दी।

जदूं कीड़ें दी जून्ना दे दिनें गी कट्टा करदी ही,
तदूं माह्नू दा लागर देह्, इसगी लग्गा हा सोह्ना,

प जून कट्टियै माह्नू दी जद एह् होग ब्रह्मा दी, –
फिरी बी त्रेह् नेईं मुक्कग तां इस रूहा दा केह् होना?

अगर ऐसा कदें होग्गी, इसी मेरी सलाह् एह् ऐ –
”वियोगी“ कोल आई जायां बिदा ब्रह्मा गी तूं करियै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com