Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दुआसी

दुआसी मेरी रूहा बिच्च अपना आह्लड़ा बुनियै,
जबरदस्ती दुआर बंद करियै बास करदी ऐ।

ते रूह् फामी होई जन्दी ऐ पिट्टी-पिट्टी सिर धुनियै,
दुआसी इक्क निं सुनदी ते नां क्यास करदी ऐ।

दुआसी हाल दी हालत दा नक्षा ऐ जां माज़ी दा,
कोई अद्ध-मोएं दा झूरा कु’रा दा डरदा-डरदा ऐ।

भविक्खा दा कोई गुंझल जां अपनी ला-इलाजी दा,
कठन नुसखे दा मेरै बास्तै अनुबाद करदा ऐ?

दुआसी दी बजह केह् ऐ? में पुच्छां जे मना कोला,
अतिऐंत्त खिंझियै, खौह्रेपना नै दिन्दा परता ऐ –

”वियोगी छोड़ खैह्ड़ा ते अकारण पा नेईं रौला।“
नकारा कैसा मेरी जिन्दगी दा करता-धरता ऐ?

‘वियोगी’ बास्ते पान्दा मगर जन्दी दुआसी निं ;
ते लक्ख जतन करदा, छोड़दी लेकन खलासी निं।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com