Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नुक्ता-नज़र

भ्यागा तक्क हा मी आस्था दा जुंग बे-फौन्दा,
प मी षतानियां-षतूनियां न भान्दियां अजकल।

कबुद्धें भाएं कड्ढी दी ऐ मेरी तांह्गें दी खुक्खल,
प अपने-आपा गी मेरे षा दोष देन निं होन्दा:-

की जे पाप बी ते पुन्न बी तूं गै करान्ना एं।
एह् दुनियां खेड ऐ तेरी ते चाल डाह्डी ऐ ;

असें गी आस्थी-अनास्थी तूं गै बनान्ना एं ;
एह् तेरी चाल आगू ऐ ते तेरी चाल फाडी ऐ।

नमेद तूं, चनामत तूं सुक्खन तूं, सरीनी तूं,
ते भजन गाने आह्ला बी गुआने आला बी तूं एं।

तूं गै षक्क ते षरधा, जकीन, बे-जकीनी तूं ;
जकीन देने आह्ला बी, मुहाने आह्ला बी तूं एं।

ते इस नुकता-नज़र मूजब-जो हाल होआ मेरा ऐ ;
एह्दे च हत्थ मेरा कोई निं, कसूर तेरा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com