Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अमल

जदूं बी असलीयत कन्नै मलाटी सुखनें दी होंदी,
ए क्हीकत ऐ जे जेह्ड़ी क्हीकत ही रौंह्दी निसो क्हीकत ;

तरारें च नमर्दी बे-बसी, बे-चारगी पौंदी ;
सुडौल हीखियें दी, डाह्डी, आई जंदी ऐ षामत।

सुखनें च पचीदा मसले बी सखल्ले होई जंदे,
प बडलै, आदमी तांईं, रुजान्ना अक्ख भु’लदे गै,

सैह्ज सुखनें दे कलेवरें गी भुलदे-भुलदे गै:-
सारे बल्ल हल्ल, सुखनें दे, कबल्ले होई जंदे।

खुदा दिंदा ऐ पैह्लें सुखने फ्ही उंदा दमन करदा,
चरूनी पैह्लें कोला सुखनें बाद कौड़तन होंदी ;

प रात पौंदे गै सुखने फिरी लैने दा मन करदा
मना गी सुखनें कन्नै इन्नी बे-पीरी लगन होंदी

नषे च चूर फ्हीमियें दा चंगा हाल होंदा ऐ,
नषा त्रुटदे गै लेकन उंदा जीना म्हाल होंदा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com