Explore KVMT

All Dogri Sonnets

भोगी षारा

सवेरै, झुसमुसै-में उट्ठियै आया जदूं बेह्ड़ै,-
तां उत्थें, ढूए-भार, गाह्लड़ चूहे दौं हे बैठे दे।

द’मैं ब्यस्त हे आपूं-चें; इन्ने बैठे दे नेड़ै-
जे दऊं बजाए मीं षुरू दै इच इक्क गै लग्गे।

में डोल उंदै नेड़ै आइयै, र्हान होए दा दिक्खां,
जे जिसलै मादा ई, नर गाह्लड़-चूहा लाडा नै हाम्बै।

तां मादा मीटियै उन्मादा कन्ने अपनियां अक्खां ;
नरा दे जिस्मा कन्ने चमकियै, अवेका नै कम्बै।

में तेरै कोल हा औना ते, उंदे नेड़ै हा जिंदे-
दुराडे थाह्रें च मजूदगी मेरी जरूरी ही ;

निहा में ठैह्रना मिक्की अगर ओह् साद्दा बी दिंदे।
मिरी गड्डी दा बक्त निकला दा हा तौल ही मिक्की,

ते गाह्लड़-चूहें मिक्की रुकने दा साद्दा निहा दित्ता,
ते मि’म्मी तौले-तौले अड्डे दै पास्सै हा रुख कीता।।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com