Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जीने दा मोह्

असाढ़ी जिंदड़ी दी लोऽ, हर सूरत ते हाल्ला च,
सरूनी होंदी ऐ मौता दे काले-मस्स न्हेरे षा।

ते बाल्लन दी मुत्हाज, हिसलने षा पैह्लें, ज्वाला च-
लोई दे खीरले खिन चंगे न बरबस्स न्हेरे षा।

चंगा हा अगर होंदे, मगर चंगे निं एह् होंदे:-
नराष हीखियें दे जान-खाऊ, भूतनू झूरे।

अगर-मगर मेरी रूहा पिच्छें लग्गे दे रौंह्दे, –
एह् रैह्त बलबले दे गौह्-गमान हीन जन ङ्हूरे।

असाढ़े चित्ता दे गुद्दे दे पुल्ले मरकज़ा अंदर –
अगर-मगर आद्दी होई गेदे जींदे रौह्ने दे –

ते प्रेत-रूपी परछौरे फ्ही बौंह्दे न मना अंदर –
अपनी कीती ते अनकीती दे होने, निं होने दे।

ते भामें जीने गी अगर-मगर करदे न बे-ढंगा,
फिरी बी जीना ऐ, मौती थमां, ज्हारां गुणा चंगा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com