Explore KVMT

All Dogri Sonnets

प्यारा दा पासकूं

तराजू जिंदगी दा साफ-साफ दस्सा करदा ऐ:
दुखें दा पल्लड़ा भारा, सुखें दे पल्लड़े कोला ;

एह्सास, कमतरी दा कालजे च बस्सा करदा ऐ,
ते जिगरा इच्छमें दा होए दा ऐ पस्त ते हौला।

मना दी पस्तियें गी में ज्हारां हौसले दिन्नां,
मगर मुरझाई दी हीखी दी हैन्नी मुरदनी जंदी:

दिला गी जेल्लै बी झूठा दलासा, रौंसला दिन्नां,
मिरी क्हीकत-पसंदी रस्ते दी अड़चन बनी जंदी।

ओ मेरे हानियां, जदूं षा हैन्नी मेरै कोल तूं,
अदूं षा में सुआल्ली आं, कदूं ऐ तूं मिगी थ्होना?

जदूं बज्झग, मिरी भेठा तिरे प्यारा दा पासकूं,
बरोबर जिंदगानी दा तराजू ऐ तदूं होना।

एह् जिच्चर होग निं, दिला दी हालत इ’यै रौह्नी ऐ:-
सुखें दी भेठा षा दुखें दी भेठ भारी होनी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com