Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मनै दे बैह्म

कठन-कठनाइयें गी कट्टियै मनुक्ख एह् सोचै,
जे जेह्ड़े मुष्कलें दे जान-लेवा मारू हल्ले हे ;-

(उनें गी स्हारियै-दस्सो भला ओह् होर केह् सोचै?)
पचीदा हे, धड़ल्ले हे-मगर फ्ही बी सखल्ले हे।

जुदाई माह्नू षा-कट्टन निं होंदी मासा बी भामें ;
मलाटी होंदे गै सारा मना दा जैह्र घुलदा ऐ ;-

दिला दे बैह्म म्हिसदे ते दलासे थ्होंदे न सामें,-
नराष गिड़गिड़ांदी हीखियें दा कैह्र भुलदा ऐ।

लमेरी रात भामें मुक्कने दा नांऽ निसो लैंदी,
प जंदी झुसमुसे दै आस्सै-पास्सै आ’नियै मुक्की।

रातीं गासा दे तारें गी-जेह्ड़ी दाग आखै दी,
ओह् चिंता रोषनी दे औंदे गै लगदी ऐ बे-तुक्की।

मना दा बाद्धा, घाट्टा, खौफ ते जकीन ते लारे ;-
अगर तुस मन्नो तां आखां – मना दे बैह्म न सारे।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com