Explore KVMT

All Dogri Sonnets

यराना

मिगी निक्की बरेसा च ही आगल एह् मनें – बद्धी,
जे अपनी जिन्दगी च खूब में नामा कमाना ऐ।

ते अपनी ज़िन्दगी गी कामयाब में बनाना ऐ,
प हून, जेल्लै मेरी आयु ऐ लंघी गेई अद्धी:-

चफेरै पेई दी ऐ खलबली एह्दे च बे-हद्दी,
(जो मेरा सोचने दा सिलसला लग्गा पुराना ऐ ;

जो मेरी जिन्दगी दा लेखा-जोखा, ताना-बाना ऐ) –
मसौदे मेरे मनसूबे दे सारे होए न रद्दी।

मुतासर एह्दे षा होइयै मिरी अकला दी पन-चक्की,
चलन लगदी ऐ तेज सोचियै, एह् दिल ञ्याना ऐ।

ते भामें एह्दी खड़बुद्धी चला करदी ऐ अन-झक्की,
इसी नां कोसना में, नां इसी मन्दा गलाना ऐ।

ते मेरी दोस्ती ऐ एह्दै कन्नै मुंढा षा पक्की,
ते एह्दा मेरै कन्नै मुंढा षा गैह्रा यराना ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com