Explore KVMT

All Dogri Sonnets

गझोकड़ माज़ी

रोजान्ना बेह्ड़ै आइयै, पैह्लें आंह्गर चिड़ियें दा चुंभा,
निहालप करियै चूगै दी घड़ी-भर, उड्डी जंदा ऐ।

ते भामें पैह्लें दै आंह्गर इसी दाना निसो थ्होंदा,
फिरी बी बेह्ड़े च चिड़ियें दा चुंभा रोज औंदा ऐ।

ते बेहियै, बोह्ड़ी दे बूह्टें दी पतली टाह्लियें उप्पर,
बुलांदा ऐ घरै आह्लें गी अपनी चुर-मुरै कन्नै।

प जेल्लै बाह्र नेईं औंदा कोई, एह्दे बुलाने पर,
तां उड्डी जंदा ऐ एह् इक-बुआजी फुर-फुरै कन्नै।

उदे नै गिज्झे दे चिड़ियें दे चुंभें गी खबर हैन्नी,
गझाइयै चिड़ियें गी ‘वियोगी’ हून बखले खलाड़ें च।

जलावतनी दा दंड भुगतै करदा ऐ ते घर हैन्नी,
फसे दा जीने तांईं रोज़गारा दे पुआड़ें च।

फ्ही भामें चूग नेईं थ्होने करी ओह् उड्डी जंदा ऐ,
फिरी बी बेह्ड़े च चिड़ियें दा चुंभा रोज़ औंदा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com