Explore KVMT

All Dogri Sonnets

रंगरूट चाऽ

गलांदे ओ तां ठीक होग, जे भावुक तरारे च,
कदें तुस बिजन बनझाए कुसा दी दाद नेईं दिंदे |

ख्याल केह྄ ऐ तुन्दा मेरियां नज़्में दे बारे च ?
तुसें गी कैसे लग्गे न , कलेवर ओपरे इंदे ?

बुजुर्गो थापियां देने थमां तुस झक्का करदे ओ,
तुसाढ़े कन्नें गी आदत ऐ मर्यादी सदाएं दी |

सुआल मेरे सुनियै, अनसुने करेओ मीरे पुरखो| ,
कश्मकश दिक्खेओ मेरे नमें रंगरूट चाएं दी |

इदै परैंत्त बी जे मान निं, दुतक्रारेओ भामें ,
तुसाढ़ी घाक ऐ, रसूख ऐ ते राज ऐ तुंदा |

अगर लग्गन तुसें गी चाह྄ – चकोर शैल ते सामें,
तां सिर्फ मन्नेओ, ‘वियोगो’ हम-बुआज ऐ तुंदा |

ते भाएं सिद्धियां डोआरेओ लूआरीयै बाह्मां ,
प एह྄ करने थमां पैह྄लें जरूर पढ़ेओ एह྄ नज़मां |

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com