Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मौका

अऊं इनसान दी किसमत दा मालक आं; मेरै बेह्ड़ै
बेही रौंह्दे न षोह्रत, प्यार ते दौलत बनी-ठनियै।

मिगी लेन्दी मेरी आदत समें दै थाह्र हर-केह्ड़ै ;
मरूथल ते समुन्दर गांह्दा रौह्न्नां में बजर बनियै।

दमा-दम में चली जन्नां, मेरा चलना निरंतर ऐ,
ते इक बारी में हर-इक संगली गी खड़खड़ाना ऐ।

कोई रौंह्दा ऐ मैह्ला इच जां कुटिया दै अन्दर गै,
उसी मिलने दी इक-बारी पक्क उत्थें जाना ऐ।

जढ़े सुत्ते दे, मेरी जागियै औंगल फड़ी लैन्दे,
सरांह्दे भाग अपने आखियै, करनी ऐ किसमत दी।

जढ़े सुत्ते दे रौंह्दे आलसी, ब्हान्ने घड़ी लैन्दे,
ओ रौंह्दे कोसदे कच्ची, कबल्ली, भैड़ी हालत गी।

में औन्नां इक्कै बारी, इक्कै बारी, इक्कै बारी गै ;
मेरे जाने परैंत्त लक्ख पौन्दी आओजारी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com