Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सुआल गै सुआल

मुकम्मल कम्म केह्ड़े होए ते बचेआ ऐ केह् बाकी?
सफर होआ ऐ किन्ना, बाकी ऐ किन्ना सफर बचेआ?

इस फानी जिंदगी च, होर किन्ने सुआस रेह् बाकी?
ते मेरी अलबिदा षा पेषतर ऐ किन्ना चिर बचेआ?

मी अपने चेचे सफरै दी ही, कुस बेल्लै खबर होई?
में कोल्लै फैसला कीता हा अपनी चेची मंज़ल दा?

ते कोह्के मोड़ा उप्पर, मेरी कोषष बे-असर होई?
ते कोह्के इच्छमै उप्पर, मिगी अबूर हासल हा?

मनुक्ख जिंदगी दे मोड़में रस्तें प चलदे लै,
एह् अपने आपै षा, कदें-कदाली पक्क पुछदा ऐ।

मसूस, अंतर-ग्यान करदा ऐ लाग्गै अजल जेल्लै,
सुआल अपने आपै गी ओ चान-चक्क पुछदा ऐ।

ते भागषाली न जेह्ड़े उसी, देई सकन परता:
”जढ़े कम्मै गी फड़ेआ हा, उसी पूरा करी दित्ता।“

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com