Explore KVMT

All Dogri Sonnets

षोह्रत ते मकबूलियत

षोह्रत कीरती, यषमान ऐ ते नेकनामी ऐ,
अबो मकबूलियत दी बक्खरी सत्ता ऐ इस कोला।

षोह्रत मानदा दी खास सद-स्थाई हामी ऐ,
अतें मकबूलियत दा बित्त ऐ इ’दे थमां हौला।

रुहानी जज़्बा ऐ षोह्रत – बजद एह्दा टकाऊ ऐ,
अबो मकबूलियत ते केवल इक बुआल ऐ बक्ती।

इदी सत्ता अति प्रचंड ऐ प आऊ-जाऊ ऐ,
षोह्रत ऐ मगर हमेषगी दी परखी दी जुगती।

षोह्रत ओह् ज़रीहा ऐ जिदै राहें गुणी साधक,
हमेषां लोकें दी रूहें च बड़ियै जींदे रौंह्दे न।

अतें मकबूलियत दी भड़क भामें होंदी ऐ ओड़क,
अबो एह्दे नियत खिन-पल अति गै थोढ़े होंदे न।

अगर मकबूलियत मगैष ऐ बरूनी जाम्में दी,
तां षोह्रत मैह्क ऐ रूहा दे अंदरूनी मसामें दी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com