Explore KVMT

All Dogri Sonnets

धीयां

में अन्दर बैठे दे जां कल्ले बेह्ड़े च खड़ोते दे ;
इस खाली, सुन्नसान बंगले गी दिक्खी जा करनां !

मिगी ऐ समझ किष बनदा नेईं यादां खरोते दे।
तां बाह्रा चुप्प आं बो बिच्चो-बिच्च चीखी जा करनां।

धीयें दे गड़ाकें नै हे एह् कमरे भरोचे दे,
पसार उन्दी फुस-फुस नै हे म्हेषां गूंजदे रौंह्दे।

उनें परदेस जाना हा प होन्दा किष निं सोचे दे,
ते चेते रोन्दे-रोन्दे अपने हंजू पूंझदे रौंह्दे।

दिन गुजारनां नबेड़दे जीने दे टैंटें गी।
मगर संञा घरा च औन्दे गै दुआस होई जन्नां,

ते रोज कलपदे गुजारनां रातीं दे घैंटें गी।
एह् मूढ़मत ऐ में जाननां प फी बी रोई जन्नां !!

ओ धीयें दे गड़ाके कन्नै उन्दी दिब्ब खषबोई !
में मन्नां नां अमानत हे !! दिला ई आखै केह् कोई ??

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com