Explore KVMT

All Dogri Sonnets

गुज़ारषां

ओ मेरी नज़्मो, गीतो, ग़ज़लो, तुस र’वेओ सदा बगदे
ते मेरे अक्खरें दी मानसूनो, सुक्केओ निं तुस,

ते सौन, भाद्रों दे म्हीन्नेओ, हून मुक्केओ निं तुस:
मिगी तुंदे सैलानी तौर-तरीके खरे लगदे।

तुंदी सेजलें नै, तुंदियां मिली करी तपषां,
भुलान सारियां, कुलैह्नियां, बे-पीरियां हवसां।

सचज्जा जीन तां तुंदै मुजूं गुज़ारन होंदा ऐ,
पवित्तर जज़्बें दा तुंदै मुजूं उसारन होंदा ऐ।

फ्ही, चूं’के सुक्की-मुक्की जाना तुंदा बी जरूरी ऐ,
अपने जाने षा पैह्लें, मीं दस्सी ओड़ेओ यारो।

तुसाढ़ै बिजन निं जीन जीना झूरी-झूरियै,
मिगी तुस झूरने तैं इक्कला निं छोड़ेओ यारो!

एह् जीना-मरना ते दुनियां च हर-कुसा नै होंदा ऐ,
प तुंदा साथ नेक-किस्मतें आह्लें गी थ्होंदा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com