Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जीवनकथा दा मसौदा

असाढ़े कन्नो-कन्नी, जमदे गै, बने-बनाए दा,
मसौदा भेजदा ऐ ईष्वर म्हेषां, बिला-नाह्गा।

ते साढ़े अज्ज ते अतीत ते भबिक्ख ते भ्यागा,
दा स्हाब पूरा होंदा एह्दे च पूरा लखाए दा।

मसौदा जिं़दगान्नी दी कथा दे कर्मा-कर्मा दा;
मसौदा हीखियें दा, सद्धरें दा, एह्दे धर्मा दा;

मसौदा भुक्खें-रज्जें, लोड़ें-थोड़ें, झूरें-चाएं दा;
मसौदा गुफ्तगूएं, चुप्पियें, पुन्नें-गुनाहें दा; –

बजिलद ते मुकम्मल हर लिहाज़ा इच होंदा ऐ।
बिराम-चि’न्न थोढ़े’क: कुदै उपसर्ग जां कामा,

(जाह्री बाद्धा-घाट्टा जो ब्याजा इच होंदा ऐ)
कुदै सरबरक, लफ्ज़ी जोड़, कुदरै हिज्जा-क टामां-

सवाए इंदे होर किष बी ते बदलोई निं सकदा:
मसौदे कोला रत्ती इद्धर-उद्धर होई निं सकदा

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com