Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मषवरा

लुकाई कच्ची होंदी ऐ: एदे सब बाक बिसले न:
दुआसी की, सवी-संञां, मेरे चेह्रे पर हावी ऐ ?

सजीव नैन तेरे की कुड़े इस चाल्ली हिसले न ?
की तेरे फड़कदे होठें दै उप्पर ला-जवाबी ऐ ?

असें अज्ज प्यार कीता तां गलांदी ऐ धङाणै गै,
दमैं अस खज्जलखार, बे-अकल, बदकार बैतल आं।

अगर अस प्यार निं करदे, बनी रौंह्दे बगान्ने गै,
लुकाई आखदी कायर आं, बुज़दिल आं, डरौकल आं।

खुदा दा बास्ता ई करन दे चरचे लुकाई गी ;
लुकाई कच्ची होंदी ऐ, एदे सब बाक बिसले न।

तूं कैह्ली लोकें दी सुनियै, एह् जान झूरें पाई दी ?
एह् सारे बे-क्यासे, मीसने, दोखी ते ज्हमले न।

दुआसी छोड़, हस्स-खेढ, जीना सिक्ख तूं कुड़िये ;
सजीव नज़रें कन्नै मेरै पासै दिक्ख तूं कुड़िये।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com