Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अकीदें दी कबूली

कोई बी कीतियां, अनकीतियां करी निसो सकदा,
अबो प्रसंग ते इंदे जरूरी बदली सकदे न;

ते बडलै समझेआ गेआ हा जेह्ड़ी गल्लें गी मंदा,
उनें गल्लें दे संञां होर मतलब निकली सकदे न।

ते जेह्ड़ी कथनियें ते करनियें दे मिलदे इवज़ाने;
छड़े गाली-गलोच, हस्सो-हानी तनज़ ते ताह्ने;

फ्ही उंदै इवज़ इज़्ज़त-मान बी ते थ्होई सकदा ऐ।
ते ऐसा होंदा आया ऐ ते ऐसा होई सकदा ऐ?

नखेधां जीने दियां समझा इच्च एह् जदूं औङन,
‘वियोगी’ रंजषें कोला तूं बे-मुहार होई जायां।

सबेरै भंडने आह्ले अगर संञां लै पछताङन,
तां लौह्के लोकें दे लौह्केपुनै षा बाह्र होई जायां।

ते याद रक्खेआं:- ईसें गी पैह्लें सूली थ्होंदी ऐ;
उदै त्तपरैं गै अकीदें दी कबूली होंदी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com