Explore KVMT

All Dogri Sonnets

हार

दिना दे खीरले खिन बल्लें-बल्लें डुब्बा करदे न ;
एह् मेरी जिन्दगी दे ध्याड़े दी संञा दा बेल्ला ऐ।

नषान न्हेरें दे धूड़-मधूड़े लब्भा करदे न ;
में बेहियै सोचा नां-एह् जिन्दड़ी कैसा झमेल्ला ऐ ?

मटोटर होई दी पीड़ें नै मेरी पसली-पसली ऐ,
तरीका मेरी टोरा दा ऐ भलेआं झक्के-झक्के दा ;

ते कसक सुरकदे छाल्लें दी केवल होन्दी असली ऐ,
खुषी मसान ऐ-! में सोची जन्नां अक्के-पक्के दा।

में भामें जिन्दगी दी बत्ता उप्पर चलदे-चलदे लै,
नषानदेहियें दे कम्मा च रत्ती चुक्क निं कीती।

दबा-सट्ट द्रौड़दे लै, चान-चक्क रुख बदलदे लै,
दमा च त्रोड़ निं आन्दी ते काह्ली उक्क निं कीती।

मगर एह् करदे बेल्ले बी मिरी रूहा च झाका ऐ,
मना च खौफ ऐ, सोचें च बे-पीरा ध्राका ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com