Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खीरी खिना तिक्कर

में ते बापू नै, इक दिन, ट्रेन फगड़ने लेई,
प्लेटफारमै प पैर रक्खे गै जे केह् दिखचै?

मसाफर-गड्डी नै सीटी बजाई ते चली पेई !
मनो-मन, आखेआ में, दस्स बापू, हून केह् करचै।

ट्रेन छुड़कदे दिक्खी, तां बापू पेई आ खिट्टें,
ते उसगी आखेआ में, (द्रौड़दे होई उदै पिच्छें)

”तरद्दद की करां नां? गड्डी एह् थ्होनी निसो बापू।
एह् साढ़े बास्तै ते आस्तै होनी निसो बापू।

अबो बापू नै, खिट्टें पेदे, मीं आखेआ, ”पुत्तर,
होई सकदा एह् गड्डी खंुझी जा, पर जे ख्ुांझानी ऐ

तां पूरी कोषषा परैंत्त ते खीरी खिना तिक्कर,
में इसगी फगड़ने तांईं, सबूरी टिल्ल लानी ऐ।“

मिगी चेता निं, गड्डी थ्होई ही ओह् जां निही थ्होई?
प कोषष फगड़ने दी उसगी पूरी-पूरी ही होई।

Copyright Kvmtrust.Com