Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ब्हान्ना

मिगी तूऐं गलाया हा, ”तुगी में संञा’लै मिलगी?“
निहालप चाएं-चाएं मि’म्मी ओह्की संञा दी कीती।

मिरी हस्ती हमा-तन-गोष होइयै उस गितै बलगी,
ते संञ ओह् बिजन तेरै बड़ी कठनाई च बीती।

बरान रात ही ओह् में गुजारी तारें गी गिनदे,
बगैर तेरै, जीने च मिरा लग्गी निं सकेआ मन।

तिरै बगैर मेरे सुआस बी होए हे षरमिंदे,
इनें गी ऊरमा मूजब लगा हा छोड़ना लेकन।

ख्याल इक्क छुत्त कीते दा, आया मना अंदर
तिरा मतलब हा संञ ओह्कड़ी जां संञ जीवन दी?

में इन्ना लीन हा तेरे फलेली जोबना अंदर;
बरीकी में निही समझी खरै उस तेरे बाचन दी?

तुगी में बलगा करनां-पर दुनियां नै गलाना ऐ,
”तिरै बगैर जीने दा एह् मेरा षैल ब्हान्ना ऐ!“

Copyright Kvmtrust.Com