Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खदीजा बीबी दी देन

खदीजा गी, म्हम्मद दे नबी होने दे दा’वे दा,
जकीन हा सबूरा, ओह्दै कन्नै प्यार हा उसगी।

ते तां गै मूर्छत हाल्ला च, उस सुर्गी बुलावे दा,
मफहूम समझी सकेआ हा ओह् दुनियावी म्हम्मद बी।

असर हा एह् खदीजा ते नबी देे मन-मलावे दा,
जे म्हम्मद दा जकीन बल्लें-बल्लें होई आ पक्का।

ते म्हत्व समझियै पूरी त’रां सुरगी बुलावे दा,
म्हम्मद ते खदीजा नै हा छोड़ी ओड़ेआ मक्का।

उदी पैगम्बरी गी फतबा मिलेआ हा छलावे दा,
अबो खदीजा नै बे-बक्त अपनी मौती दै तिक्कर।

सबूरा साथ दित्ता लाडले रसूल बाबे दा
बिजन खदीजा बीबी दै ‘वियोगी’ दुनियां दै अंदर -,

नां होनी ही रसालत, नां कुरआन-ए-पाक लाफानी ;
नां हिजरत, नां फतह मक्के दी नां गै एह् मुसलमानी।

Copyright Kvmtrust.Com