Explore KVMT

All Dogri Sonnets

त्रै खीरी हीखियां

त्रै-अग्गा आंह्गर हीखियां मेरे मना च न,
ते उंदे पूरे होंदे गै मिगी मन्ज़ूर ऐ मरना।

त्रै-भांबड़ जेह्ड़े लग्गे दै मेरे तना च न-
उंदे हिसलदे गै काज निं में होर किष करना।

पैह्ली:- ”कांता“ गी घोटियै में अपनी बाह्में च,
उदी सुआदली ते मचलदी जुआनी गी चक्खां।

दूईः- पुख़्तगी आन्नां इरादै दे तनामें च,-
हर-इक घोर-काली मुष्कला गी कुचलियै रक्खां।

तीजी हीखी ऐ जे सार में समझां सृष्टी दा,
ते इसगी समझियै लिखां में इक खीरली कविता

उदे इच गुण होऐ म्हादेव दी तीजी दृष्टी दा,
ते चरचे होन जे दिक्खो ”वियोगी“ नै लिखी गीता !!

त्रैवै हिसलङन जेल्लै-मना दे भड़कदे षोले,
तां प्राण त्यागी देगा में खुषी कन्नै, बिजन बोले!

Copyright Kvmtrust.Com