Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जीने दा तौर – तरीका

जोग अब्बा दे मरने परैंत्त जोतरी जेल्लै;
पंजाली जिंदगी दे दांदें दै गल आ’नियै पाई।

मिरे बाकफ निं दांद!! मी पता लग्गा हा उस बेल्लै;
उनें मूंह् मारियै मीं पुच्छेआ हा,-”कु’न एं तूं भाई!“

में सोटा गूरेआ तां दांद बोल्ले-”केह् करा करनां?“
असें गी मार खाइयै बुढ़ने दी ते आदत हैन्नी सो।“

तिरे इच जोष ऐ प तुक्की ऐ एह् मन्नना पौना,
दनां बी साढ़े कन्ने निबटने दी म्हारत हैन्नी सो।“

में सोचें पेई आ हा-भाव मेरे होए हे मांदे,
प मेरी तांह्ग ही पुख्ता ते सच्ची ही लगन मेरी।

में दांदे तांईं जाइयै छनछनांदे घुंगरू आंदे,
ते उंदे ताल्ला उप्पर जोग लग्गी ही बगन मेरी।

तदूं षा हाल्ली धोड़ी जिन्ने बी में जोतरे लाए:-
सरोखड़, कामयाब ते मनासब ते खरे लाए !!

Copyright Kvmtrust.Com