Explore KVMT

All Dogri Sonnets

षोह्रत

षोह्रत संगदिल रानी ऐ, इसगी जो कोई चांह्दा
ओदे कोला, ओ, नक्कें घीसियां लक्खां कढांदी ऐ।

कोई साधु फरैन्त, सिरफिरा जे रौं नेईं लांदा,
तां ओदे लक्खां तरले करदी ते लागै बुलांदी ऐ।

षोह्रत ऐसी पज्जन ऐ-जदूं कोई एह्दी गल्ल करदा,
तदूं बदनामियें दा दोष ओदै मत्थै मढ़दी ऐ,

ते जेकर ज़िकर निं एह्दा ‘वियोगी’ चार पल करदा,
तां बाह्मां कुंजियै, निरलज्ज बनियै खूब लड़दी ऐ।

खुषी भांदी निं इसगी अपने मतबालें दी रत्ती बी,
ऐ एह्दा लाड बी मारू ते एह्दा बैर बी मारू।

इसी चिन्ता निं होंदी भुड़कने आह्लें दी रत्ती बी,
ऐ एह्दा प्यार बी मारू ते एदा कैह्र बी मारू।

‘वियोगी’ ते इदी भेठा दना बी ध्यान नेईं दिन्दा।
ते एह्की करकसा गी रूह् अपनी खान नेईं दिन्दा।।

Copyright Kvmtrust.Com