Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अद्ध – रस्ते दे बचार

मिगी मसरूफ कान्नी दे, मिरे परमातमा, ते मीं,
मना दे घोड़े दियां ढिल्लियां तूं करन दे बागां।

मसाह्रा सलगदे चित्ता दा लेइयै, ओदै कन्ने फ्ही,
जुआन जज़्बें दे कोलें च मी सलगान दे अग्गां।

अधेड़ उमरी दा बेल्ला आई पुज्जा ऐ मेरा पर,
फिरी बी मेरे जोड़ें दी होई हरकत नकम्मी निं,

बरेस बड्डी ऐ मेरी, मगर तूं दिक्खी लै ठाकर,
अजें तिक्कर मेरे सुआतमा दी मुक्की गरमी निं।

अजें बी खनखनांदे हास्से मेरा दिल चुरांदे न,
अजें बी चित्त मेरा तरसदा ऐ भोगी षारें गी,

अजें बी कुंआंस मेरी अक्खियें दे फड़फड़ांदे न
ते ताजा अत्थरूं करदे न याद पिछले थाह्रें गी।

अजें ते कान्नी मेरी रुकने तै तेआर हैन्नी सो,
ते इसगी रोकने दा मेरा बी बचार हैन्नी सो।

Copyright Kvmtrust.Com