Explore KVMT

All Dogri Sonnets

काह्ली

अजें तक काह्ली ही मी तौले-तौले बड्डे होने दी,
समें दे करतें-धरतें दै बराबर होइयै चलने दी।

दना-हारी बी मेरी मंज़लें च रुची हैन्नी ही,
मी केवल लालसा ही काफलें दै कन्ने रलने दी।

मगर, उन्तालमीं पौड़ी, उमर दी पूरी होन्दे गै,
मिगी मसूस होन्दा ऐ जे पूरी होने आह्ली ऐ।

एह् हुतली टोर मेरी होई दी ऐ हून तां करियै,
ते मिक्की मंज़लें गी छूह्ने दी लग्गी दी काह्ली ऐ।

में सोचा नां जे बाकी जिन्दगी दे साल जेह्ड़े न,
खरै गुज़रे दे साल्लें आंह्गर गै तौले घरोने न ?

जे इयै होग तां में पाए दे जिन्ने बखेड़े न,
अधूरे रेही जाङन फ्ही मुकम्मल कि’यां होने न ?

मुकम्मल करने दा लेकन मेरा पक्का इरादा ऐ,
अधूरे कम्में दी मकदार भामें बौह्त जादा ऐ !!

Copyright Kvmtrust.Com