Explore KVMT

All Dogri Sonnets

तपस्या

जढ़े प्रयोग करने दी कुसा दी हिम्मन निं पौन्दी,
मेरे गित्तै ओ सूखम, सैह्ज, सैह्ले ते सखल्ले न।

हुनर दी सैह्जता असीम जोखम कट्टियै थ्होंदी:
मती बरीकियें दे गुर सखोंदे बल्लें-बल्लें न।

उमर दी चाह्लमीं पौड़ी दे बषकारा दे डंडे पर,
तेरी प्रीता दे मकदे ङारे दी अग्गा गी तपदे लै।

सजीली सान्नटें घरमोल पाया रूहा दै अन्दर,
तां षब्द सोचें गी थ्होए मना दै कोल ढुकदे गै।

चबात लग्गा तुक्की र्हानगी नै तूं गलाया हा ;
”सजीली सान्नट लिखने तै तूं मैंट्ट दो छड़े लाए?“

तां अपनी सैह्जता दा राज में तुक्की सुनाया हा,
”में मैंट्ट दो नेईं हे भोलेआ-चाह्ली ब’रे लाए।“

नज़्म फुरदी ऐ अपने भकतें गी भाएं सकैंटें च,
बो दषकां कट्टियै तपस्या दे मारू टैंटें च।

Copyright Kvmtrust.Com