Explore KVMT

All Dogri Sonnets

आसरमां

मते बारी ख्याल डोगरी दा में जदूं करनां,
हताष अऊं होई जन्नां ते झूरें इच पेई जन्नां।

ते अपनी लेखनी दे हीरें गी दिखदा गै रेही जन्नां ;
इनें गी पाठकें अपना कदूं करना, कदूं करना ?

नसीब मेरे हे फुट्टे दे, ऐसी बेवा बोल्ली दी,
नरोई षैली कन्ने मिक्की इन्नां इष्क होआ ऐ ;

करोड़ां रंजषां जरियै में कीती सेवा बोल्ली दी,
प मेरी कोषषें दा बेड़ा सारा गरक होआ ऐ।

फिरी में सोचनां जे धरती दी छाती दै इच पत्थर,
करोड़ें साल्लें दी पाल्ली दै बाद हीरे बनदे न।

ते सच्चे हेरूऐं दी अनरुकी खोजें मुजूं आखर,
मलैम डुंडुएं गितै नमें कलीरे बनदे न।

कुसा ऐसे गै हेरूआ नै मेरे लफ्ज़ पढ़ने न,
ते चुनियै बेष-कीमत हीरे एह् चित्ता च मढ़ने न।

Copyright Kvmtrust.Com