Explore KVMT

All Dogri Sonnets

हठ-धरमी

दुखें दे खुंढे चक्कू चुब्भे न मेरे कलेजे च,
गमें ऐ उक्खली च चुत्थेआ मेरे दमागा गी

ते पीड़ हड्डें षा होइयै षुरू पुज्जा दी भेजे च,
रंडापा चाह्गदा ऐ चाह्गे जि’यां-क सुहागा गी।

मेरी गरसाल जिन्द दोस्तें गी अक्खरा करदी ;
मता फूकू ऐ सेक दोस्ती दा मकदे ङारें षा।

जो पीड़ खिच्चियै हड्डें षा मास बक्खरा करदी,
तां पीड़ ओह्कड़ी कचज्जी होंदी पीड़ सारें षा।

तां आखां भोलेआ चित्ता तूं हार मन्नी लै मूढ़ा,
रगें गी बिंद-हारी ढेल देइयै राम देई लैचै।

अगर एह् जिद्द निं छोड़ी, होई जागा सुआह्-कूड़ा,
प्यासी हस्ती ऐ – हत्थें च मदकी जाम लेई लैचै।

नेहा कच्चा, मगर होए दा हाल्ली हाल निं मेरा, –
एह् मुमकन ऐ में हारी जां मगर खेआल निं मेरा।

Copyright Kvmtrust.Com