Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खंडर

में पूरे बीहें साल्लें दै परैंत्त, इक्क दिन चेचा,
तपाषा चेतें दिया फत्तू दै चैगान हा आया।

लड़कपन मेरे दी होंदी ते होनी हून बी चरचा?
में इस्सै लाने च नमियां प्यूंदां लान हा आया।

बड़ा ते बोढ़ी दे जोड़े दे पक्के उस थ’ढ़े उप्पर,
बखले लोक हे – सब किष बड़ा सुनसान मीं लग्गा।

चैगाना कोला लेइयै रियोड़ियें दी हट्टियें तक्कर,
कुसै पनछानेआ निं सत्त-बखला ज्हान मीं लग्गा।

सरोत बलबलें मेरें दा लग्गा, मिक्की बे-रौनक,
उचाट चित्त हा मेरा, दुआस जीऽ हा मेरा।

ते एह् किष सोचदे’लै समझा च आई गेआ चानक,
अजीरन दिल होऐ दा इन्ना जादै कीऽ हा मेरा?

”मिरे साथी मजूद हैन्नी सो, पराने बेह्ड़ें च,
मिरै आंह्गर गै ओ मसरूफ न निजी बखेड़ें च।“

Copyright Kvmtrust.Com