Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सबूतै दी लोड

ओ माता बैष्नो, तेरे करिंदे राषी न, तां गै,
एह् तेरा भगत बिजन दरषनें दै परती आया हा,

में तेरी षक्ती दे बजूदै गी नखेधेआ ओल्लै,
ते तेरी मैह्मा गी, पांडें दा षड़जंतर गलाया हा।

में लेकन नामुकम्मल आदमी आं, त्रुटियें दा पुतला?
तुगी नखेधियै, सोचा नां, एह् में केह् करा करनां?

तुगी नखेधने दा फैसला होऐ निं, एह् हुतला,
तुगी नखेधियै, में अंदरो-अंदर मरा करनां।

में तेरा भगत आं, मिक्की दना मरने दा डर हैन्नी ;
भसम कर राषियें गी जां मिगी, इन्साफ कर फौरन ;

सबूत देई दे इक्कै दृष्टि मारियै पैन्नी;
में तेरे छंदे करनां, मामला एह् साफ कर फौरन।

एह् मेरा फतबा फ्ही, जकीना च बदली निं जा कुदरै?
ते भगतें दे दिलें चा तेरा नां निकली निं जा कुदरै?।

Copyright Kvmtrust.Com